Vikram sarabhai in hindi. विक्रम साराभाई जी की जीवनी 2019-01-05

Vikram sarabhai in hindi Rating: 4,3/10 237 reviews

Dr. Vikram Ambalal Sarabhai (1963

vikram sarabhai in hindi

Dr Vikram Sarabhai established many institutes which are of international repute. Mallika played the role of in the 's play. After completion of his graduation he went to Cambridge for further studies. But the clock was ticking. As a result of Dr. Vikram Sarabhai was one of the greatest scientists of India.

Next

VIKRAM SARABHAI minecraftservers.nu,Mavelikara

vikram sarabhai in hindi

He returned to Cambridge in 1945 and completed his Ph. Vikram Sarabhai died on 30 December 1971 at Kovalam, Thiruvananthapuram, Kerala. Today, the Centre is called the Vikram A Sarabhai Community Science Centre. I also believe that a person who does not have respect for time, and does not have a sense of timing, can achieve little. .

Next

Vikram Sarabhai Biography

vikram sarabhai in hindi

Unsourced material may be challenged and removed. He was also Chairman of the Atomic Energy Commission. Varaiable Energy Cyclotron Project, Calcutta 9. Amongst them is An Idea Named Meera; In Search of the Goddess and SvaKranti: The Revolution Within. Sarabhai was considered as the Father of the Indian space program; He was a great institution builder and established or helped to establish a large number of institutions in diverse fields. में वे फिर कैम्ब्रिज चले गए और 1947 ई.

Next

Vikram Sarabhai

vikram sarabhai in hindi

He was a very curious child who loved to explore life. The play went around 120 schools and colleges. Vikram Sarabhai जन्म 12 अगस्त 1919 , मृत्यु 30 दिसम्बर 1971 1971-12-30 उम्र 52 , in , , आवास राष्ट्रीयता क्षेत्र संस्थान गुजरात कॉलेज , प्रसिद्धि उल्लेखनीय सम्मान १९६६ मरणोपरांत १९७२ डॉ॰ विक्रम साराभाई के नाम को भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम से अलग नहीं किया जा सकता। यह जगप्रसिद्ध है कि वह विक्रम साराभाई ही थे जिन्होंने के क्षेत्र में को अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र पर स्थान दिलाया। लेकिन इसके साथ-साथ उन्होंने अन्य क्षेत्रों जैसे वस्त्र, भेषज, आणविक ऊर्जा, इलेक्ट्रानिक्स और अन्य अनेक क्षेत्रों में भी बराबर का योगदान किया। डॉ॰ साराभाई के व्यक्तित्व का सर्वाधिक उल्लेखनीय पहलू उनकी रूचि की सीमा और विस्तार तथा ऐसे तौर-तरीके थे जिनमें उन्होंने अपने विचारों को संस्थाओं में परिवर्तित किया। सृजनशील वैज्ञानिक, सफल और दूरदर्शी उद्योगपति, उच्च कोटि के प्रवर्तक, महान संस्था निर्माता, अलग किस्म के शिक्षाविद, कला पारखी, सामाजिक परिवर्तन के ठेकेदार, अग्रणी प्रबंध प्रशिक्षक आदि जैसी अनेक विशेषताएं उनके व्यक्तित्व में समाहित थीं। उनकी सबसे महत्त्वपूर्ण विशेषता यह थी कि वे एक ऐसे उच्च कोटि के इन्सान थे जिसके मन में दूसरों के प्रति असाधारण सहानुभूति थी। वह एक ऐसे व्यक्ति थे कि जो भी उनके संपर्क में आता, उनसे प्रभावित हुए बिना न रहता। वे जिनके साथ भी बातचीत करते, उनके साथ फौरी तौर पर व्यक्तिगत सौहार्द स्थापित कर लेते थे। ऐसा इसलिए संभव हो पाता था क्योंकि वे लोगों के हृदय में अपने लिए आदर और विश्वास की जगह बना लेते थे और उन पर अपनी ईमानदारी की छाप छोड़ जाते थे। विक्रम साराभाई पत्नी मृणालीनी के साथ ,1948 डॉ॰ विक्रम साराभाई का अहमदाबाद में 12 अगस्त 1912 को एक समृध्द जैन परिवार में जन्म हुआ। अहमदाबाद में उनका पैत्रिक घर न्न द रिट्रीट न्न में उनके बचपन के समय सभी क्षेत्रों से जुड़े महत्वपूर्ण लोग आया करते थे। इसका साराभाई के व्यक्तित्व के विकास पर महत्वपूर्ण असर पड़ा। उनके पिता का नाम श्री अम्बालाल साराभाई और माता का नाम श्रीमती सरला साराभाई था। विक्रम साराभाई की प्रारम्भिक शिक्षा उनकी माता सरला साराभाई द्वारा मैडम मारिया मोन्टेसरी की तरह शुरू किए गए पारिवारिक स्कूल में हुई। गुजरात कॉलेज से इंटरमीडिएट तक विज्ञान की शिक्षा पूरी करने के बाद वे 1937 में कैम्ब्रिज इंग्लैंड चले गए जहां 1940 में प्राकृतिक विज्ञान में ट्राइपोज डिग्री प्राप्त की। द्वितीय विश्व युद्ध शुरू होने पर वे भारत लौट आए और बंगलौर स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान में नौकरी करने लगे जहां वह सी. Those who knew Vikram well maintain that he would not have disobeyed a direct order from the prime minister. They separated after seven years and later divorced. He is considered as the Father of the Indian space program. He became obsessed with science and all that science has to offer over his course of stay in England.

Next

Vikram Sarabhai : Birth

vikram sarabhai in hindi

The institute was formally established at the M. Vikram enjoyed an undeniably strong rapport with Indira till the late 1960s. He received the Tripos in Natural Sciences from Cambridge in 1940. Mallika has won many accolades during her long career, the Golden Star Award is one of them, which she won for the Best Dance Soloist, Theatre De Champs Elysees, Paris 1977. He successfully convinced the government of the importance of a space programme for a developing country like India after the Russian Sputnik launch. Raman, a Nobel Prize winner. Cras sagittis suscipit arcu, ac ullamcorper mauris mattis quis.

Next

Vikram Sarabhai Biography

vikram sarabhai in hindi

साराभाई का जीवन विश्व भर के युवा-वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा का अनमोल स्रोत है. She is a noted choreographer and dancer and has also acted in a few Hindi, Malayalam, Gujarati and international films. साराभाई का जन्म गुजरात के सम्पन्न उद्योगपति अम्बालाल साराभाई और सरला साराभाई के घर हुआ था विक्रम अम्बालाल और सरला के आठ संतानों में से एक थे सरला ने अपने सभी बच्चो को आरंभिक शिक्षा देने के लिए मोंटेसरी प्रथा के अनुसार एक स्कूल की स्थापना करवाई थी जो आगे चल कर काफी प्रसिद्ध हुई साराभाई के परिवार स्वतंत्रता अभियान में शामिल होने के कारण इनके घर पर अक्सर स्वतंत्रता सेनानियों का आना जाना लगा रहता था इन सभी का इनके घर पर आना और डॉ. में उन्होंने कैम्ब्रिज में सेंट जोन्स कॉलेज में प्रवेश लिया और 1939 ई. Vikram Sarabhai married the classical dancer in 1942. Science Institute, Ahmedabad, on 11 November 1947 with support from the Karmkshetra Educational Foundation and the.

Next

डा.विक्रम साराभाई की जीवनी

vikram sarabhai in hindi

After a remarkable effort in setting up the infrastructure, personnel, communication links, and launch pads, the inaugural flight was launched on November 21, 1963 with a sodium vapour payload. रमण के निरीक्षण में कॉसमिक रेज़ पर अनुसंधान करने लगे। उन्होंने अपना पहला अनुसंधान लेख न्न टाइम डिस्ट्रीब्यूशन ऑफ कास्मिक रेज़ न्न भारतीय विज्ञान अकादमी की कार्यविवरणिका में प्रकाशित किया। वर्ष 1940-45 की अवधि के दौरान कॉस्मिक रेज़ पर साराभाई के अनुसंधान कार्य में बंगलौर और कश्मीर-हिमालय में उच्च स्तरीय केन्द्र के गेइजर-मूलर गणकों पर कॉस्मिक रेज़ के समय-रूपांतरणों का अध्ययन शामिल था। द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति पर वे कॉस्मिक रे भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में अपनी डाक्ट्रेट पूरी करने के लिए कैम्ब्रिज लौट गए। 1947 में उष्णकटीबंधीय अक्षांक्ष ट्रॉपीकल लैटीच्यूड्स में कॉस्मिक रे पर अपने शोधग्रंथ के लिए कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में उन्हें डाक्ट्ररेट की उपाधि से सम्मानित किया गया। इसके बाद वे भारत लौट आए और यहां आ कर उन्होंने कॉस्मिक रे भौतिक विज्ञान पर अपना अनुसंधान कार्य जारी रखा। भारत में उन्होंने अंतर-भूमंडलीय अंतरिक्ष, सौर-भूमध्यरेखीय संबंध और भू-चुम्बकत्व पर अध्ययन किया। डॉ॰ साराभाई एक स्वप्नद्रष्टा थे और उनमें कठोर परिश्रम की असाधारण क्षमता थी। फ्रांसीसी भौतिक वैज्ञानिक पीएरे क्यूरी 1859-1906 जिन्होंने अपनी पत्नी मैरी क्यूरी 1867-1934 के साथ मिलकर पोलोनियम और रेडियम का आविष्कार किया था, के अनुसार डॉ॰ साराभाई का उद्देश्य जीवन को स्वप्न बनाना और उस स्वप्न को वास्तविक रूप देना था। इसके अलावा डॉ॰ साराभाई ने अन्य अनेक लोगों को स्वप्न देखना और उस स्वप्न को वास्तविक बनाने के लिए काम करना सिखाया। भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम की सफलता इसका प्रमाण है। डॉ॰ साराभाई में एक प्रवर्तक वैज्ञानिक, भविष्य द्रष्टा, औद्योगिक प्रबंधक और देश के आर्थिक, शैक्षिक और सामाजिक उत्थान के लिए संस्थाओं के परिकाल्पनिक निर्माता का अद्भुत संयोजन था। उनमें अर्थशास्त्र और प्रबंध कौशल की अद्वितीय सूझ थी। उन्होंने किसी समस्या को कभी कम कर के नहीं आंका। उनका अधिक समय उनकी अनुसंधान गतिविधियों में गुजरा और उन्होंने अपनी असामयिक मृत्युपर्यन्त अनुसंधान का निरीक्षण करना जारी रखा। उनके निरीक्षण में 19 लोगों ने अपनी डाक्ट्रेट का कार्य सम्पन्न किया। डॉ॰ साराभाई ने स्वतंत्र रूप से और अपने सहयोगियों के साथ मिलकर राष्ट्रीय पत्रिकाओं में 86 अनुसंधान लेख लिखे। कोई भी व्यक्ति बिना किसी डर या हीन भावना के डॉ॰ साराभाई से मिल सकता था, फिर चाहे संगठन में उसका कोई भी पद क्यों न रहा हो। साराभाई उसे सदा बैठने के लिए कहते। वह बराबरी के स्तर पर उनसे बातचीत कर सकता था। वे व्यक्तिविशेष को सम्मान देने में विश्वास करते थे और इस मर्यादा को उन्होंने सदा बनाये रखने का प्रयास किया। वे सदा चीजों को बेहतर और कुशल तरीके से करने के बारे में सोचते रहते थे। उन्होंने जो भी किया उसे सृजनात्मक रूप में किया। युवाओं के प्रति उनकी उद्विग्नता देखते ही बनती थी। डॉ॰ साराभाई को युवा वर्ग की क्षमताओं में अत्यधिक विश्वास था। यही कारण था कि वे उन्हें अवसर और स्वतंत्रता प्रदान करने के लिए सदा तैयार रहते थे। डॉ॰ साराभाई एक महान संस्थान निर्माता थे। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में बड़ी संख्या में संस्थान स्थापित करने में अपना सहयोग दिया। साराभाई ने सबसे पहले अहमदाबाद वस्त्र उद्योग की अनुसंधान एसोसिएशन एटीआईआरए के गठन में अपना सहयोग प्रदान किया। यह कार्य उन्होंने कैम्ब्रिज से कॉस्मिक रे भौतिकी में डाक्ट्रेट की उपाधि प्राप्त कर लौटने के तत्काल बाद हाथ में लिया। उन्होंने वस्त्र प्रौद्योगिकी में कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया था। एटीआईआरए का गठन भारत में वस्त्र उद्योग के आधुनिकीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था। उस समय कपड़े की अधिकांश मिलों में गुणवत्ता नियंत्रण की कोई तकनीक नहीं थी। डॉ॰ साराभाई ने विभिन्न समूहों और विभिन्न प्रक्रियाओं के बीच परस्पर विचार-विमर्श के अवसर उपलब्ध कराए। डॉ॰ साराभाई द्वारा स्थापित कुछ सर्वाधिक जानी-मानी संस्थाओं के नाम इस प्रकार हैं- भौतिकी अनुसंधान प्रयोगशाला पीआरएल , अहमदाबाद; भारतीय प्रबंधन संस्थान आईआईएम अहमदाबाद; सामुदायिक विज्ञान केन्द्र; अहमदाबाद, दर्पण अकादमी फॉर परफार्मिंग आट्र्स, अहमदाबाद; विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र, तिरूवनंतपुरम; स्पेस एप्लीकेशन्स सेंटर, अहमदाबाद; फास्टर ब्रीडर टेस्ट रिएक्टर एफबीटीआर कलपक्कम; वैरीएबल एनर्जी साईक्लोट्रोन प्रोजक्ट, कोलकाता; भारतीय इलेक्ट्रानिक निगम लिमिटेड ईसीआईएल हैदराबाद और भारतीय यूरेनियम निगम लिमिटेड यूसीआईएल जादुगुडा, बिहार। विक्रम साराभाई भारतीय डाकटिकट पर 1972 डॉ॰ होमी जे. Ministry of Home Affairs, Government of India. Quotes By Vikram Sarabhai Image Source : Google These are Various Quotes which are saying By Dr. The movie which had as the hero, did not do very well at the box office. रमन, जवाहरलाल नेहरू, गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर जैसे महापुरुषों का आना-जाना लगा रहता था, जिससे बचपन से ही उन्हें इन महापुरुषों का सान्निध्य मिला, जिसका व्यापक प्रभाव डॉ. Darpana Academy has launched the people awareness movement through its production Unsuni which travels all over India.

Next

Vikram Sarabhai : Birth

vikram sarabhai in hindi

Along with his wife , he founded the. At the same time, India was also developing nuclear capabilities. In 2009 Mallika Sarabhai acted in an Indian adaptation Bertolt Brecht's of Ahmedabadki Aurat Bhali-Ramkali directed by in 34th Vikram Sarabhai International Art Festival. Vikram Sarabhai started a project for the fabrication and launch of an Indian Satellite. होमी जहांगीर भाभा की एक विमान दुर्घटना में असामयिक मृत्यु के बाद डॉ. Homi Jehangir Bhabha, widely regarded as the father of India's nuclear science program, supported Dr. भाभा की जनवरी, 1966 में मृत्यु के बाद डॉ॰ साराभाई को परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष का कार्यभार संभालने को कहा गया। साराभाई ने सामाजिक और आर्थिक विकास की विभिन्न गतिविधियों के लिए अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी में छिपी हुई व्यापक क्षमताओं को पहचान लिया था। इन गतिविधियों में संचार, मौसम विज्ञानमौसम संबंधी भविष्यवाणी और प्राकृतिक संसाधनों के लिए अन्वेषण आदि शामिल हैं। डॉ॰ साराभाई द्वारा स्थापित भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, अहमदाबाद ने अंतरिक्ष विज्ञान में और बाद में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में अनुसंधान का पथ प्रदर्शन किया। साराभाई ने देश की रॉकेट प्रौद्योगिकी को भी आगे बढाया। उन्होंने भारत में उपग्रह टेलीविजन प्रसारण के विकास में भी अग्रणी भूमिका निभाई। डॉ॰ साराभाई भारत में भेषज उद्योग के भी अग्रदूत थे। वे भेषज उद्योग से जुड़े उन चंद लोगों में से थे जिन्होंने इस बात को पहचाना कि गुणवत्ता के उच्च्तम मानक स्थापित किए जाने चाहिए और उन्हें हर हालत में बनाए रखा जाना चाहिए। यह साराभाई ही थे जिन्होंने भेषज उद्योग में इलेक्ट्रानिक आंकड़ा प्रसंस्करण और संचालन अनुसंधान तकनीकों को लागू किया। उन्होंने भारत के भेषज उद्योग को आत्मनिर्भर बनाने और अनेक दवाइयों और उपकरणों को देश में ही बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। साराभाई देश में विज्ञान की शिक्षा की स्थिति के बारे में बहुत चिन्तित थे। इस स्थिति में सुधार लाने के लिए उन्होंने सामुदायिक विज्ञान केन्द्र की स्थापना की थी। डॉ॰ साराभाई सांस्कृतिक गतिविधियों में भी गहरी रूचि रखते थे। वे संगीत, फोटोग्राफी, पुरातत्व, ललित कलाओं और अन्य अनेक क्षेत्रों से जुड़े रहे। अपनी पत्नी मृणालिनी के साथ मिलकर उन्होंने मंचन कलाओं की संस्था दर्पण का गठन किया। उनकी बेटी बड़ी होकर और की सुप्रसिध्द नृत्यांग्ना बनीं। डॉ॰ साराभाई का कोवलम, तिरूवनंतपुरम केरल में 30 दिसम्बर 1971 को देहांत हो गया। इस महान वैज्ञानिक के सम्मान में में स्थापित थुम्बा इक्वेटोरियल रॉकेट लाँचिंग स्टेशन टीईआरएलएस और सम्बध्द अंतरिक्ष संस्थाओं का नाम बदल कर रख दिया गया। यह इसरो के एक प्रमुख अंतरिक्ष अनुसंधान केन्द्र के रूप में उभरा है। 1974 में सिडनी स्थित अंतर्राष्ट्रीय खगोल विज्ञान संघ ने निर्णय लिया कि 'सी ऑफ सेरेनिटी' पर स्थित बेसल नामक मून क्रेटर अब के नाम से जाना जाएगा। भारतीय टपाल विभाग द्वारा उनकी पहली मृत्युँकी पहली वरसी पर 1972 मेँ एक डाक टिकट जारी किया गया.

Next